How to Develop Confidence? आत्मविश्वास कैसे बढाये?

Confidence

How to Develop Confidence? आत्मविश्वास कैसे बढाये?

     आत्मविश्वास एक एैसी कुंजी है, जीससे हम कोई भी समस्या का ताला खोल सकते है। बहोत सारे लोक है जीनको हमेशा डर सताते रहता है। ऑफिस मे बॉस का डर, रस्ते पे ॲक्सिडेंट का डर, घर मे बडो का डर, बिबी का डर, बच्चो को एक्झाम का डर एक्झाम आने से बच्चोमें तणाव बढ जाता है। और अच्छी पढाई नही हुई तो बच्चे फस्ट्रेशन मे चले जाते है। दुनियामें एैसा कोई भी इंन्सान नही है। जीसको किसीन किसीका डर नही है। डर दिखता नही है। मग वो दिमाग मै निर्माण होता है। डर की वजह कल्पना है। इसप्रकार के डर पर विजय पानेके लिये हमे अपना आत्मविश्वास बढाना चाहिये। आत्मविश्वास बढाना डिफिकल्ट नही। मगर उसके उपर हमे काम करना होगा तभी आत्मविश्वास बढ सकता है। निचे दिये गये कुछ पाईंट पर कृती करने के बाद डर हमेशा के लिऐ चला जायेगा। और आत्मविश्वास हमेशा के लिये बरकरार रहेगा।

1. अपने ड्रेसींग सेन्स को सुधारे:

     यह बडा अच्छा तरीका है जो आपका आत्मविश्वास बढा देगा। अपने ड्रेसींग सेन्स पर हमेशा ध्यान दे। अक्सर हम देखते है की, बहोत सारे लोक कोईभी कलर, कोईभी साईज के कपडे पहनते है। मगर इससे खुद को अच्छालगता होगा मात्र अपने नजीक के लोग, ऑफिस के लोगोको आपका ड्रेसींग सेन्स अच्छा नही लगता। इसलिये ड्रेस पहनते समय इससे सामने वाले लोगोपर क्या असर होगा. इसके बारे मे जरूर सोचे. इससे आपका आत्मविश्वास बढेगा।

2. वो करीये जो Confident लोग करते है:

     कोई भी कार्यक्रम, प्रोग्रॅम मे जाने के बाद हम लास्ट सिट मे जाके बैठते है। उसके बजाये फ्रंट सिट पर बैठीये, Question/Answer मे भाग लिजीये। चलने और बैठने के ढंग पर ध्यान दे। दबी आवाज मे मत बोलिये, खुलकर नीडर होके बोलिये। बोलते समय हमेशा Eye Contact रखिये।

3. किसी एक चीज मे अधिकतर लोगो से बेहेतर बनिये:

     हमे आदत पडी है की हम सब काम थोडा थोडा अच्छा करना जाणते है। मगर कोईभी एक काम मे एक्सपर्टी हासिल नही करते। अब हमे जीस काम मे अधिक रूची है उस काम को पॅशन की तरह करना चाहिये। और उसी काम मे महारथ हासिल करना चाहिये। इससे आप बाकी लोगो की तुलना से बेहेतर बन सकते है।

4. अपने past achievement को याद किजीये:

     जब भी हम कोई काम करते है, उस समय हमे निराशा आती है। निराशा आने के बाद आत्मविश्वास ढल जाता है। उससे निपटने के लिये, आपने अपने Past मे जो achievement की थी उसको याद किजीये। उससे आपका होसला बढ जायेगा और आपको जीस काम से निराशा आयी काम आप अच्छी तरह से करेंगें.

5. कल्पना किजीये की आपमे आत्मविश्वास है:

     आनंद और नैराश्य का विचार दिमाग मे ही रहता है। जब हम आंनद की बाते करते है तो हमे सुकून मिलता है। और जब हम नकारात्म, नैराश्यपूर्ण सोच रखते है तो हम कुछ कर नही पाते. इसलिये जब जब आपके मन मे नकारात्म्म सोच आती है। तो उसे कल्पनामे बदल दिजीये की हा मुझमे आत्मविश्वास है और मे काम कर सकता हू।

6. गलतिया करणेसें मत डरीये:

     अक्सर यह देखा गया है की लोगोको गलतिया करणेसे डर लगता है। कोईभी काम करनेसे डर लगता है। पहेले तो बगैर चिंता के काम सुरू करे, काम करते रहे उसमे पहिली बार, दुसरी बार आप असफल हो सकते है। मगर उससे आपको गलतियो का पता चलेगा और बादमे उस गलतियो को कैसे सुधारे इसके बारेमें आपको तंत्र समझ जायेगा।

7. जो चीज आपका आत्मविश्वास घटाती है उसे बार बार करे:

     हम कोई काम चुनते है और उसको करनेका प्रयास करते है और उसमे हम असफल होते है। इससे आपका आत्म विश्वास घटता है। और वह काम आप छोड देते है। बजाय इसके आपको उस काम को करते रहना चाहिये। वही काम बार बार करते रहनेसें उससे डर गायब हो जाता है और आपका आत्मविश्वास बढता है।

8. कुल्हाडीको तेज करे:

     कोई भी पेड काटनेसे पहले कारागीर अपने कुल्हाडी की धार तेज करता है। क्युं की उसको पता है की जब कुल्हाडीकी धार तेज होगी तो पेड काटना आसान होगा और जलदी कटेगा। उसीप्रकार हमे भी जो काम करना है उसेक लिये जो आवश्यक चीजे है उनको धारदार बनाना होगा. उससे आपका काम जल्दी खत्म होगा.

9. विशेष मौके पर विशेष तैयारीया किजीये:

     हमेशा सतर्क रहिये, कोई भी मोका हो तो उसका फायदा उठाईये, फायदा उठानेके लिये आपको उस मौकेकी तैयारी करनी होगी. बिना तैयारीके आप कोईभी सफलता पा नही सकते. कोईभी प्रोग्रॅम हो, कॉलेज, स्कुल, मे कार्यक्रम हो या गावमें कुछ कार्यक्रम हो। विशेष मौके पर विशेष तैयारी करे।

10. हमेशा सफलता का विचार मन मे लाईये:

     कोईभी काम करते समय मै इसमे सफल कैसे हो पाउंगां। कोनसी पॉसिबीलिटी है जीससे मुझे सफलता मिलेगी। इस प्रकार हमेशा सफलता का विचार मन मे लाईये। पहले पहले आपको परेशानी होगी मगर जब आप हमेशा सफलता के बारेमें सोचेंगें तो आपका दिमाग भी उसी प्रकार कार्य करेगा.

    इस दुनियामे बहोत सारे एैसे लोग थे की जीनके पास आत्मविश्वास के शिवाय कुछ भी नही था। फिर भी उन्होने अपने अस्तित्व का निर्माण कीया। आत्मविश्वास हममे तैयारी करनेसे बढता है। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे मे जो तैयारी करनी पडती है उसे करे. इससे डर खत्म होगा और आप सफल होंगे।

Post a Comment

1 Comments